बिहार की प्रमुख भाषा व बोलियां | Bihar Ki Bhasha Aur Boliyan

आज के अपने इस आर्टिकल में हम बिहार की प्रमुख भाषा और बोलियों के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे, यहां पर हम आपको बिहार राज्य में बोले जाने वाली सभी भाषाओं की जानकारी विस्तारपूर्वक देंगे साथ ही उस भाषा से जुड़ी बातें भी आपको बताएंगे, यदि आप भी जानना चाहते हैं कि बिहार राज्य की प्रमुख भाषा और बोलियां क्या है तो हमारे आज के इस आर्टिकल को अंत तक अवश्य पढ़ें।

बिहार की प्रमुख भाषा व बोलियां
बिहार की प्रमुख भाषा व बोलियां

बिहार की प्रमुख भाषा व बोलियां

बिहार राज्य की राजकीय भाषा हिंदी है, जो कि अभिव्यक्ति का एक प्रमुख स्रोत है हालांकि इस भाषा के अलावा भी बिहार राज्य में कई भाषाएं बोली जाती हैं जैसे कि:

  • मैथिली
  • मगही
  • अंगिका
  • संथाली
  • वज्जिका
  • मुंडारी  

इस राज्य में बोली जाने वाली भाषाओं में हिंदी और उर्दू के शब्द मिले हुए हैं, बिहार राज्य में बोली जाने वाली भाषाओं में क्षेत्रीय विविधता देखने को मिलती है, जैसे कि दक्षिण पश्चिमी में भोजपुरी भाषा, उत्तरी पूर्वी में मैथिली और दक्षिण में मगही।

बिहार में दो परिवार की भाषाएं बोली जाती हैं, पहली आर्य परिवार की भाषाएं और दूसरी मुड़ा परिवार की भाषाएं। डॉक्टर जॉर्ज अब्राहम गियर्सन विद्वान ने बिहार की बोलियों को बिहारी भाषा से संबोधित किया।

आर्य परिवार की भाषाएं

इस परिवार की भाषाओं को ही बिहारी भाषाओं का नाम दिया गया है, इस परिवार में मुख्य 3 भाषाएं हैं:

  • भोजपुरी भाषा
  • मगही भाषा
  • मैथिली भाषा

भोजपुरी भाषा

भोजपुरी भाषा पश्चिमी बिहार के छपरा, गोपालगंज, भोजपुर, सिवान, रोहतास, पश्चिमी और पूर्वी चंपारण आदि कई जिलों में बोली जाती है। इस भाषा का इस्तेमाल कई धारावाहिक सीरियल फिल्मों और साथ ही राज्य की खबरों को बताने या दर्शाने के लिए किया जाता है। यह भाषा खासतौर से बिहार राज्य के भोजपुर जिले में बोली जाती है, जिस वजह से इस भाषा का नाम भोजपुरी पड़ा।

मैथिली

मैथिली भाषा दरभंगा, समस्तीपुर, सुपौल, सहरसा, मधुबनी, मेघपुरा, सीतामढ़ी जैसे जिलों में बोली जाती है, प्राचीन समय में यह भाषा मिथिला अक्षर या कैथी लिपि में लिखी जाती थी लेकिन वर्तमान समय में यह देवनागरी लिपि में लिखी जाती है।

मगही

मगही भाषा पटना, औरंगाबाद, गया, जहानाबाद, नवादा, अरवल, नालंदा, लखीसराय, जमुई आदि जिलों में बोली जाती हैं। इस भाषा की शुरुआत मगदी में हुई थी, और यह पहले के समय में मगध साम्राज्य की धार्मिक भाषा है। आपको बता दें महावीर और बुद्ध ने अपने उपदेश के लिए इसी भाषा को अपनाया था।

वज्जिका

बिहार राज्य में वज्जीका भाषा ज्यादातर मुजफ्फरनगर, मधुबनी, शिवहर समस्तीपुर सीतामढ़ी, चंपारण, दरभंगा आदि जिलों में बोली जाती है।

अंगिका

यह मैथिली भाषा की ही एक बोली है जो कि भागलपुरी नाम से जानी जाती है यह भाषा बिहार राज्य के भागलपुर, कटिहार, मुंगेर, बेगूसराय, खगड़िया, पुर्निया, अररिया जिलों में बोली जाती है।

Also read:

FAQs:

बिहार राज्य में कौन-कौन सी भाषाएं बोली जाती हैं?

हिंदी, भोजपुरी, मैथिली, मगही, अंगिका, संथाली, वज्जिका और मुंडारी भाषा बोली जाती है।

आर्य परिवार के अंतर्गत कौन सी भाषाएं आती हैं?

आर्य परिवार के अंतर्गत 3 भाषा आती हैं जैसे कि भोजपुरी भाषा, मगही भाषा और मैथिली भाषा।

मुड़ा परिवार की भाषाएं कौन सी है?

अंगिका, संथाली, वज्जिका और मुंडारी मुंडा परिवार की भाषाएं हैं।

निष्कर्ष:- आज के अपने इस आर्टिकल में हमने आपको बिहार की प्रमुख भाषा और बोली के विषय में विस्तार पूर्वक जानकारी दी उम्मीद करते हैं आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा।

Leave a Reply